Acid Attack: शादी प्रपोजल पर 'ना' सुनकर बौखलाया प्रेमी, महिला के चेहरे पर फेंका तेजाब

 

Acid Attack: बेंगलुरु में अपनी प्रेमिका द्वारा शादी का प्रस्ताव ठुकराए जाने से नाराज प्रेमी द्वारा प्रेमिका पर तेजाब फेंकने की घटना सामने आई है. इस अटैक के बाद महिला ने अपनी आंखों की रोशनी खो दी है.

Acid Attack: शादी प्रपोजल पर 'ना' सुनकर बौखलाया प्रेमी, महिला के चेहरे पर फेंका तेजाब

Acid Attack: हमारे देश में किसी लड़की पर एसिड अटैक होने की घटनाएं लगातार जारी हैं. सालों से तेजाब की बिक्री बंद करने को लेकर अभियान चलाए जा रहे हैं लेकिन आज भी ऐसे मामले सामने आ जाते हैं जहां अपना रिजेक्शन ना सह पाने वाले लोग लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने में एक पल नहीं लगाते. एक बार फिर ऐसी ही मामला बेंगलुरु में शुक्रवार को सामने आया है, जहां शादी के लिए मना करने पर प्रेमी ने प्रेमिका पर तेजाब फेंक दिया. 

गिरफ्तार हुआ आरोपी अहमद

दरअसल, बेंगलुरु में अपनी प्रेमिका द्वारा शादी का प्रस्ताव ठुकराए जाने से नाराज प्रेमी द्वारा प्रेमिका पर तेजाब फेंकने की घटना सामने आई है. घटना शुक्रवार के दिन, बेंगलुरु के जे पी नगर इलाके की है. पुलिस ने घटना को अंजाम देने वाले अहमद को गिरफ्तार कर लिया है. 

तीन बच्चों की मां है पीड़िता

पुलिस के अनुसार, अहमद और पीड़िता (शबाना) दोनों एक ही फेक्ट्री में काम करते थे. दोनों में अच्छी जान पहचान थी. पीड़िता तलाकशुदा 3 बच्चों की मां है और अहमद भी शादीशुदा है. अहमद लगातार पीड़िता को शादी के लिये दवाब डाल रहा था. घटना के बाद पीड़िता को अस्पताल ले जाया गया जहां उसका इलाज चल रहा है. 

एक ही फेक्ट्री में करते थे काम

इस अटैक के बाद पीड़िता की दाई आंख को नुकसान पहुंचा है. वो खतरे से बाहर बतायी जा रही है. डीसीपी बेंगलुरु साउथ, हरीश पांडेय ने बताया कि पीड़िता 32-34 साल की महिला है. वह तीन बच्चों के साथ तलाकशुदा है. वह एक फैक्ट्री में काम करती थी जहां आरोपी सहकर्मी था. वह भी शादीशुदा है. वे दोनों रिश्ते में थे. जब आरोपी ने पीड़िता से उससे शादी करने के लिए कहा तो उसने यह कहते हुए मना कर दिया कि वह शादीशुदा है और तलाकशुदा नहीं है और उसके बच्चे भी बड़े हो रहे हैं. 

टॉयलेट सफाई वाला एसिड बना हथियार

डीसीपी ने आगे बताया कि प्रेमिका ने मना किया तो यह बात आरोपी को पसंद नहीं आई. आज वह पीड़िता के साथ चला और फिर वही प्रस्ताव रखा. पीड़िता ने फिर मना कर दिया. आरोपी टॉयलेट की सफाई करने वाले लिक्विड बोतल तैयार करके आया था जिसमें एसिड था. उसने उसे उसके चेहरे पर फेंक दिया और भाग गया. 

आंखों की गई रोशनी 

डीसीपी ने जानकारी दी कि घटना के बाद पीड़िता को राहगीरों ने बचाया और अस्पताल ले जाया गया जहां उसने आंखों की रोशनी जाने की शिकायत की. अस्पताल में उसकी आंखों और चेहरे की सफाई की गई और उसे आगे के इलाज के लिए संजय गांधी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया है.

Post a Comment

Previous Post Next Post