Agnipath Yojana: प्रदर्शनकारियों ने फूंकीं ट्रेनें, पुलिस ने किया लाठीचार्ज, दिल्ली मेट्रो ने बंद किए कई स्टेशनों के दरवाजे

 Agnipath Yojana: अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन के कारण अब तक 200 से अधिक ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ है. रेलवे ने कहा कि बुधवार को प्रदर्शन शुरू होने के बाद से 35 ट्रेन रद्द कर दी गईं जबकि 13 का डेस्टिनेशन से पहले ही समापन कर दिया गया. प्रदर्शन का सबसे अधिक प्रभाव पूर्व मध्य रेलवे पर पड़ा है जिसके तहत बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के कई हिस्से आते हैं. 

Agnipath Yojana: प्रदर्शनकारियों ने फूंकीं ट्रेनें, पुलिस ने किया लाठीचार्ज, दिल्ली मेट्रो ने बंद किए कई स्टेशनों के दरवाजे

Agnipath Scheme: नरेंद्र मोदी सरकार की नई अग्निपथ योजना के खिलाफ देशभर में बवाल जारी है. कई राज्यों में ट्रेनों में भी आग लगा दी गई और नारेबाजी भी हुई. इस बीच दिल्ली में अग्निपथ योजना के खिलाफ ऑल इंडिया स्टूडेंट्स असोसिएशन (आइसा) के प्रदर्शन के मद्देनजर आईटीओ और धांसा मेट्रो स्टेशन के सारे दरवाजों को शुक्रवार को बंद कर दिया गया. 

आइसा सदस्यों ने पुलिस के रवैये के खिलाफ भी प्रदर्शन किया. डीएमआरसी ने ट्वीट कर कहा, 'आईटीओ और धांसा मेट्रो स्टेशन के सभी दरवाजे बंद हैं.' डीएमआरसी ने कहा कि दिल्ली गेट और जामा मस्जिद सहित कुछ अन्य मेट्रो स्टेशन के एंट्री और एग्जिट गेट भी कुछ समय के लिए बंद किए गए. हालांकि बाद में सभी स्टेशनों के दरवाजे खोल दिए गए. 

प्रदर्शनकारियों ने की नारेबाजी

प्रदर्शनकारी हाथ में तख्ती लिए नजर आए, जिस पर 'सशस्त्र बलों में खाली सभी पदों पर तत्काल स्थायी आधार पर भर्ती हो', 'अग्निपथ योजना वापस लें' और 'मोदी सरकार जाग जाओ' लिखा था. इसके अलावा आईटीओ पर नारेबाजी भी की गई. प्रदर्शनकारियों ने, 'अग्निपथ वापस लो, तानाशाही नहीं चलेगी' के नारे लगाए. छात्र समूह ने दावा किया कि उसके कई सदस्यों को विरोध-प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिया गया. हालांकि, पुलिस ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है.

अब तक 200 ट्रेनें प्रभावित

अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन के कारण अब तक 200 से अधिक ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ है. रेलवे ने कहा कि बुधवार को प्रदर्शन शुरू होने के बाद से 35 ट्रेन रद्द कर दी गईं जबकि 13 का डेस्टिनेशन से पहले ही समापन कर दिया गया. प्रदर्शन का सबसे अधिक प्रभाव पूर्व मध्य रेलवे पर पड़ा है जिसके तहत बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के कई हिस्से आते हैं. इन राज्यों में व्यापक स्तर पर प्रदर्शन देखा गया है. ऐसे में पूर्व मध्य रेलवे ने प्रदर्शन के कारण आठ ट्रेनों के परिचालन की निगरानी करने का फैसला भी किया है. अधिकारियों ने बताया कि वे इन ट्रेनों की आवाजाही पर नजर रख रहे हैं और स्थिति के हिसाब से उनके ऑपरेशन के संबंध में निर्णय लेंगे.

कई ट्रेनों को पहुंचा नुकसान

प्रदर्शनकारियों ने पूर्व मध्य रेलवे की तीन ट्रेनों और एक खाली ट्रेन को नुकसान पहुंचाया. उत्तर प्रदेश के बलिया में धुलाई लाइन पर खड़ी एक ट्रेन के एक डिब्बे को भी क्षति पहुंचाई. रेलवे अधिकरियों ने बताया कि फिलहाल नुकसान का आकलन करना मुश्किल है. बलिया में प्रदर्शनकारी युवाओं ने नारे लगाते हुए एक खाली ट्रेन में आग लगा दी और कुछ अन्य ट्रेनों में तोड़फोड़ की. इसके बाद पुलिस को उन पर लाठीचार्ज करना पड़ा. सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की और ट्रेन में आग लगा दी. 

Post a Comment

Previous Post Next Post