Congress Expels Kuldeep Bishnoi: कुलदीप बिश्नोई को कांग्रेस ने सभी पदों से किया निष्कासित, राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग के बाद बड़ा एक्शन

 

Rajya Sabha Cross Voting: पार्टी की तरफ से ये कार्रवाई राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग को लेकर हुई है. पार्टी ने बिश्नोई को पार्टी के सभी मौजूदा पदों से तत्काल प्रभाव से निष्कासित किया है.

Rajya Sabha Cross Voting: हरियाणा कांग्रेस (Haryana Congress) ने अपने विधायक कुलदीप बिश्नोई (Kuldeep Bishnoi) को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. पार्टी की तरफ से ये कार्रवाई राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Election Result 2022) में क्रॉस वोटिंग को लेकर हुई है. पार्टी ने बिश्नोई को पार्टी के सभी मौजूदा पदों से तत्काल प्रभाव से निष्कासित किया है. पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल के अनुसार, सोनिया गांधी ने बिश्नोई को कांग्रेस कार्य समिति के विशेष आमंत्रित सदस्य समेत पार्टी की जिम्मेदारियों से तत्काल प्रभाव से मुक्त कर दिया.

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस की ओर से हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष से बिश्नोई की सदस्यता खत्म करने की भी सिफारिश की जा सकती है. उधर, हरियाणा से राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन की हार के बाद बिश्नोई ने ट्वीट किया, ‘फन कुचलने का हुनर आता है मुझे, सांप के ख़ौफ़ से जंगल नहीं छोड़ा करते. सुप्रभात.’ उन्होंने एक ट्विटर यूजर के उस ट्वीट को भी री-ट्वीट किया, जिसमें कहा गया है, ‘सही वक्त पर लिया गया फैसला ही इंसान को औरों से अलग करता है.’

आलाकमान को समझनी पड़ेगी यह बात

राज्यसभा चुनाव में माकन की हार के बाद हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कांग्रेस के ओबीसी विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय सिंह यादव (Ajay Singh Yadav) ने भी एक ट्वीट किया जिससे यह स्पष्ट संदेश गया कि उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और उनके सांसद पुत्र दीपेंद्र हुड्डा पर निशाना साधा है. मामले के तूल पकड़ने के बाद उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि उनका इशारा हुड्डा परिवार की तरफ नहीं था. यादव ने ट्वीट किया, ‘जब पार्टी बड़े नेताओं के बेटों को बिना संघर्ष किए हुए कांग्रेस कार्य समिति का सदस्य बना देगी, उनको राज्यसभा में भेज देगी तो वह पार्टी की विचारधारा को भूलकर केवल अपने व्यक्तिगत स्वार्थ की राजनीति करेंगे. यह बात पार्टी आलाकमान को समझनी पड़ेगी.’ बाद में उन्होंने सफाई देते हुए कहा, ‘कुछ लोग स्वार्थ पूर्ति की वजह से मेरे इस ट्वीट पर यह कहने की कोशिश कर रहे हैं कि यह मैंने दीपेंद्र हुड्डा के बारे में टिप्पणी की है. यह गलत है क्योंकि दीपेंद्र हुड्डा समर्पित कांग्रेस नेता हैं और तीन बार लोकसभा में चुनकर पहुंचे हैं और दलबदलू नहीं हैं.’

कार्तिकेय शर्मा ने दर्ज की जीत

उन्होंने कहा, ‘यह टिप्पणी मैंने उन राजनेताओं के बेटों के बारे में लिखी है जो पार्टी के उच्च पद लेने के बाद भी पार्टी को छोड़ जाते हैं, मसलन ज्योतिरादित्य सिंधिया, कुलदीप बिश्नोई और आरपीएन सिंह आदि.’ हरियाणा में कांग्रेस को झटका देते हुए BJP के कृष्ण लाल पंवार और पार्टी के समर्थन वाले निर्दलीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा ने हरियाणा से राज्यसभा की दो सीट पर जीत दर्ज की. निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार देर रात दोनों की जीत की घोषणा की. चुनाव नियमों के उल्लंघन के आरोपों को लेकर मतगणना सात घंटे से अधिक देरी से शुरू हुई और देर रात दो बजे नतीजों की घोषणा की गई. निर्वाचन अधिकारी आरके नंदल ने बताया कि पंवार को 36 वोट मिले, जबकि शर्मा के खाते में प्रथम वरीयता के 23 मत गए और 6.6 वोट भाजपा से स्थानांतरित होकर आए, जिससे उनके मतों की कुल संख्या 29.6 हो गई. कांटे की टक्कर वाले इस मुकाबले में माकन को 29 वोट हासिल हुए, लेकिन दूसरी वरीयता का कोई वोट न होने के कारण वह हार गए.

Post a Comment

Previous Post Next Post