IN-SPACe Headquarters: 'अंतरिक्ष के साथ समंदर पर निगाहें', पीएम मोदी ने कहा- स्पेस टेक्नोलॉजी से आएगी क्रांति

 

IN-SPACe Headquarters Update: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन-स्पेस हेडक्वार्टर के उद्घाटन समारोह के दौरान कहा कि आज 21वीं सदी के आधुनिक भारत की विकास यात्रा में एक शानदार अध्याय जुड़ा है.

PM Modi Inaugurates IN-SPACe Headquarters: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने शुक्रवार को भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (IN-SPACe ) के मुख्यालय का उद्घाटन किया, जिसकी स्थापना अंतरिक्ष क्षेत्र में नवाचार और निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए की गई है. अहमदाबाद में उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि सरकार ने अंतरिक्ष क्षेत्र में सुधार की शुरुआत की है और इसे निजी क्षेत्र के लिए खोला है.

पीएम मोदी ने कहा, ‘मुझे आशा है कि आईटी क्षेत्र की तरह ही हमारे उद्योग वैश्विक अंतरिक्ष क्षेत्र में भी अग्रणी भूमिका निभाएंगे. मैं निजी क्षेत्र को आश्वस्त करना चाहता हूं कि अंतरिक्ष क्षेत्र में सुधार निरंतर जारी रहेगा.’ उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी दुनिया में एक बड़ी क्रांति लाने जा रही है.

विकास यात्रा में नया अध्याय जुड़ा
प्रधानमंत्री बोले आज 21वीं सदी के आधुनिक भारत की विकास यात्रा में एक शानदार अध्याय जुड़ा है. इन स्पेस भारत के युवाओं को, भारत के best minds को अपना टेलेंट दिखाने का मौका देगा. चाहे वो सरकार में काम कर रहे हों या प्राइवेट सेक्टर में, इन स्पेस (IN-SPACe ) सभी के लिए बेहतरीन अवसर बनाएगा. पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि इन स्पेस में भारत की स्पेस इंडस्ट्री में क्रांति लाने की क्षमता है. इसलिए मैं यही कहूंगा- ‘Watch this space.’

बड़े आइडिया ही जिताते हैं
पीएम मोदी ने कहा कि स्पेस सेक्टर में सुधार करके, उसे सारी बंदिशों से आजाद करके, इन-स्पेस के माध्यम से प्राइवेट इंडस्ट्री को भी सपोर्ट करके देश आज विजेता बनाने का अभियान शुरू कर रहा है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के प्राइवेट सेक्टर के लिए ज्यादा से ज्यादा 'ईज ऑफ डूइंग बिजनेस' का माहौल बनाएं, ताकि देश का प्राइवेट सेक्टर, देशवासियों की 'ईज ऑफ लिविंग' में उतनी ही मदद कर सके.

ये भी पढ़ें- Prophet Remarks Row LIVE Updates: नूपुर शर्मा के बयान पर देश के कई हिस्सों में बवाल, रांची में हिंसा के बाद लगाया गया कर्फ्यू

मिशन चंद्रयान में एकजुट था भारत 
पीएम मोदी ने कहा कि कोई साइंटिस्ट है या किसान-मजदूर है, विज्ञान की तकनीकियों को समझता है या नहीं समझता है, इन सबसे ऊपर हमारा स्पेस मिशन देश के जन-गण के मन का मिशन बन जाता है. मिशन चंद्रयान के दौरान हमने भारत की इस भावनात्मक एकजुटता को देखा था. 21वीं सदी में स्पेस-टेक एक बड़े क्रांति का आधार बनने वाला है. स्पेस-टेक अब केवल दूर स्पेस की नहीं, बल्कि हमारे पर्सनल स्पेस की टेक्नोलॉजी बनने जा रही है.

समंदर और अंतरिक्ष सबसे ज्यादा प्रभावशाली
पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में अनंत संभावनाएं हैं, लेकिन अनंत संभावनाएं कभी भी सीमित प्रयासों से साकार नहीं हो सकतीं. मैं आपको आश्वस्त करता हूँ कि स्पेस सेक्टर में सुधारों का ये सिलसिला आगे भी अनवरत जारी रहेगा. मानवता का भविष्य, उसका विकास...आने वाले दिनों में दो ऐसे क्षेत्र हैं, जो सबसे ज्यादा प्रभावशाली होने वाले हैं, वो हैं, Space और Sea.

Post a Comment

Previous Post Next Post