NHRC: भारतीय महिला साइकिल चालक ने कोच पर लगाया था उत्पीड़न का आरोप, NHRC ने SAI और खेल मंत्रालय को भेजा नोटिस

 

NHRC: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भारतीय महिला साइकिल चालक के मामले संज्ञान लेते हुए सचिव, केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय और डीजी, साई को एक नोटिस जारी कर मामले में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

Indian Woman Cyclist Case: NHRC इंडिया ने एक मीडिया रिपोर्ट का स्वत: संज्ञान लिया है जिसमें एक शीर्ष भारतीय महिला साइकिल चालक (Woman Cyclist) ने स्लोवेनिया (Slovenia) में एक शिविर के दौरान राष्ट्रीय स्प्रिंट टीम के मुख्य कोच पर अनुचित व्यवहार का आरोप लगाया है और इस संबंध में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) को एक ईमेल के जरिए शिकायत भेजी है. NHRC ने पाया है कि मीडिया रिपोर्ट अगर सही है, तो ये पीड़ित खिलाड़ी के मानवाधिकारों का उल्लंघन है. NHRC ने सचिव, केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय और डीजी, साई को एक नोटिस जारी कर मामले में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. 

इसमें पीड़ित के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति के साथ-साथ संबंधित कोच सहित जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ 4 सप्ताह के भीतर की गई कार्रवाई शामिल होनी चाहिए. एनएचआरसी ये भी पूछा कि क्या अधिकारियों द्वारा पीड़िता खिलाड़ी कोई विशेष परामर्श प्रदान किया गया है.

भारतीय महिला साइकिल चालक ने लगाया था कोच पर आरोप

गौरतलब है कि हाल ही में एक शीर्ष भारतीय महिला साइकिल चालक ने स्लोवेनिया में एक शिविर के दौरान राष्ट्रीय स्प्रिंट टीम के मुख्य कोच पर "अनुचित व्यवहार" करने का आरोप लगाया है. अधिकारियों के अनुसार, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया को भेजे गए ईमेल के बाद शिकायत दर्ज की गई थी. साई ने एक बयान में कहा कि शिकायतकर्ता को उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए 'तुरंत' भारत वापस लाया गया. साथ ही भारतीय खेल प्राधिकरण ने बुधवार को स्लोवेनिया से पूरे भारतीय साइकिल दल को वापस बुलाने का फैसला किया. 

कोच और बाकी भारतीय साइकिल चालकों को बुलाया वापस

साई (SAI) और साइक्लिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (CFI) ने आरोपों की जांच के लिए दो अलग-अलग जांच समितियों का गठन किया है. पीड़ित साइकिल चालक (Woman Cyclist) उस भारतीय टीम का हिस्सा था जो 18 से 22 जून तक नई दिल्ली में होने वाली एशियाई चैंपियनशिप की तैयारी के लिए स्लोवेनिया (Slovenia) में थी. कोच और बाकी भारतीय साइकिल चालकों के 14 जून में भारत लौटने की उम्मीद है. 

Post a Comment

Previous Post Next Post